Saturday 16 January 2010


हर सप्ताह चुने हुए आलेख को 500रू का नकद ईनाम दिया जाएगा।

प्रिय पाठकों , आप सभी को नये दशक के पहले नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ! आपको यह जानकार ख़ुशी होगी कि "जनोक्ति " ने बहुत ही कम समय में अपनी एक अलग पहचान स्थापित की है . पत्रकारिता के छात्रों द्वारा संचालित यह वेब पोर्टल निरंतर आगे बढ़ रहा है .




-                                                                       विशेष सूचना
कालीन दौर में ईपत्रकारिता वैकल्पिक मीडिया के तौर पर उभर कर सामने आया है। आज इंटरनेट पर हजारो ब्लॉग और वेबसाईट जन पत्रकारिता की मशाल लेकर सामाजिक आंदोलनों को नई राह बता रहे है। बीते दशक में संचार के ऑनलाईन माध्यमों ने अनेको परिवर्तनकारी मुहिम को जन्म दिया है। जेसिका लाल ,िप्रयदर्शन मट्टू ,नीतीश कटारा हत्याकांड हो या उपहार अग्निकांड, अपराधियों को सजा दिलाने में कानून व्यवस्था पर दबाव बनाने में ऑनलाइन मंच की भूमिका को भुला नहीं जा सकता। सोशल एक्टिविज्म के इस सशक्त मंच का सदुपयोग यहीं ख़त्म नहीं होता बल्कि ग्लोबल वार्मिंग, वन्य जीव संरक्षण ,जल संरक्षण ,कन्या भ्रूण हत्या व सूचना के अधिकार जैसे अनेक सामाजिक मुद्दों को लेकर संघर्ष किया जा रहा है . हजारों गैर सरकारी संगठनों के साथ सरकारी मंत्रालय भी जनहित के कार्यक्रमों तथा अपने कामकाज की जानकारी देने के लिए ऑनलाइन मंच को प्राथमिकता दे रहे हैं .अब तो लोकसभा चुनाव से लेकर छात्रसंघ चुनावों में भी ऑरकुट ,फेसबुक, ब्लॉग व वेबसाईट की मदद ली जा रही है। ईपत्रकारिता की दुनिया में ॔॔जनोक्ति’’ का अपना विशष्ट स्थान है। मात्र 5 महीने के अंदर जनोक्ति को गूगल ने ऑनलाईन हिन्दी मैगजीन की श्रेणी में 50वां स्थान दिया है। 
आज बाज़ारमुक्त और वादमुक्त हो समाजहित से राष्ट्रहित की ओर प्रवाहमान लेखन समय की मांग है। "जनोक्ति परिवार’’ ओज और धार से बनी हर एक लेखनी को आमंत्रित करता है। समाज, राजनीति, साहित्य, कलासंस्कृति, मीडिया, अर्थव्यवस्था और विविध विषयों पर अपने आलेख, समाचार, फीचर, साक्षात्कार आदि प्रकाशित करवानें के लिए janokti@gmail.com or jay.choudhary16@gmail.com पर मेल करें .

नोटः हर सप्ताह चुने हुए आलेख को 500रू का नकद ईनाम दिया जाएगा।

No comments: