Thursday 31 July 2008

तैयार सिपाही हो जा


सरहद ने दी आवाज़, तैयार सिपाही हो जा।

दुश्मन ना आया बाज़। ‘तैयार सिपाही हो जा।"
है ऑधी चली उधर से, ये धुंधला हुआ समॉ है।
ये फिज़ाओं में डर कैसा? ये सुर्ख़ आसमॉ क्यों है?
आफत का है आग़ाज़ !... तैयार सिपाही हो जा।
माथे पे लगाके टीका,मॉ-बाप की आशिष ले ले,
बच्चों को उठाके गोदी, कुछ प्यार दे थोड़ा ले ले।
पत्नी को बतादे राज़,... तैयार सिपाही हो जा।
बहना से बंधवा राख़ी,वो रहना जाये बाक़ी।
यारों से करले मस्ती, फिर मिले ना ऐसी बस्ती।
ये गॉव ना हो नाराज़!... तैयार सिपाही हो जा।
तेरी चाल में शान हो ऐसी ,एक वीर सिपाही जैसी!
तेरी ऑख में गरमी ऐसी, एक वीर सिपाही जैसी!
वाह! क्या तेरा अंदाज़!... तैयार सिपाही हो जा।
वर्दी को बदन पे अपनी, तू कफ़न समझकर पहन ले।
भारत के वीर सिपाही, ये वतन का जतन करले।
और हो जा तू परवाज़!... तैयार सिपाही हो जा।
मेरे लाख़ प्रणाम वो मॉ पर, तुझे जिसने जनम दीया है।
मेरे लाख़ प्रणाम पिता पर, तेरा जिसने जतन किया है।
तूझ पे है बड़ा हमें नाज़!... तैयार सिपाही हो जा।

9 comments:

Advocate Rashmi saurana said...

Razia ji, bhut sundar or marmik rachana ki hai. badhai ho.
aap apna word verification hata le taki humko tipani dene me aasani ho.

ज़ाकिर हुसैन said...

aapke desh bhakti ke jazbe ko salaam!!!

महामंत्री-तस्लीम said...

कविता पढ कर मन ओज से ओतप्रोत हो गया।

Udan Tashtari said...

वाह, बहुत बढ़िया.

महामंत्री-तस्लीम said...

Desh ko hum sabki hai zaroorat. Bloger tu bhi taiyaar hoja.
Desh prem ka jazba jagaane men samarth rachna.

दीपक भारतदीप said...

रजिया जी,
आपका यह ब्लाग मैंने पहली बार देखा तो बहुत खुशी हुई। वाकई बहुत प्रभावपूर्ण लिखती हैं और मेरी आपको शुभकामानाएं हैं कि आप ऐसे ही लिखती रहें।
दीपक भारतदीप

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

आज की दुनिया की दर्दनाक हकीकत, बधाई!

KAUSHAL KISHORE / Kharbhaia / Patna said...

Razia ji
Aapki kavita marm sparshi hai. Sachmuch rongten khade ho jaate hain.Pichhle varsh october mahine me main Tawang ( Arunachal)ki yatra par gaya tha. border aur ek purv yudhya kshetra ki meri yah pahli yatra thi.Smaran rahe ki isi raste 1962 ki chini ghoospaith hui thi . Hamare veer sainikon ne prano ki baaji laga kar seemayon ki raksha ki thi. Us ilake men aaj bhi bahaduri aur apurv shaury ki dher sari kathayen bhari padi hain.Apki kavita mujhe Tawang aur Sela pass ki yudhya bhumi aur veeron ki shahadat ki yaad dila kar rula gaya.
Lekin Razia ji ,
mujhe kabhi kabhi yeh bhi lagata hai ki kya hum desh aur samaj men insaniyat aur aman chain ke liye bhi aisi hi marmsparshi rachnayen likh sakten hain . Raag , Rang aur Ullas se bharpur .
Kavita ke liye badhai.
sadar

शहरोज़ said...

mubarak bad bahan.
meri nayi post bhi aakar dekh jao.
khoob likhti ho, dil khush hota hai.