Monday 17 August 2009

मुस्कुराता तूं चला जा


आदमी है, आदमी से मिल मिलाता तू चलाजा।

गीत कोइ प्यार के बस गुनगुनाता तू चलाजा।


गर तुझे अँधियारा राहों में मिले तो याद रख़,

हर जगह दीपक उजाले के जलाता तू चलाजा।


जो तुझे चूभ जायें काँटे, राह में हो बेखबर,

अपने हाथों से हटा कर, गुल बिछाता तू चलाजा।


सामने तेरे ख़डी है जिंदगानी देख ले,

बीती यादों को सदा दिल से मिटाता तू चलाजा।


राज़ हम आये हैं दुनिया में ही ज़ीने के लिये।

हँस के जी ले प्यार से और मुस्कुराता तू चलाजा।

5 comments:

ओम आर्य said...

सुन्दर भाव तो है ही साथ मे सुन्दर सन्देश भी है..........बधाई

दिगम्बर नासवा said...

जो तुझे चूभ जायें काँटे, राह में हो बेखबर, अपने हाथों से हटा कर, गुल बिछाता तू चलाजा

Lajawaab bhaav prastut kiye hai is rachna mein...... aashaa ki kiran jagaati achhee rachna hai....

surya goyal said...

गर तुझे अँधियारा राहों में मिले तो याद रख़,
हर जगह दीपक उजाले के जलाता तू चलाजा।

इन दो पंक्तियों में बड़े ही सुन्दर भावः पेश किये है आपने. बधाई. अगर सभी ऐसा करने लग जाये तो अँधेरा होगा ही नहीं. आपकी और मेरी लेखनी में मात्र इतना ही फर्क है की आप अपने दिल के भावः को शब्दों में पिरो कर कविता बनाते हो और मै उन्ही शब्दों से गुफ्तगू करता हूँ. मेरी गुफ्तगू पर आपका भी स्वागत है. www.gooftgu.blogspot.com

AlbelaKhatri.com said...

WAAH RAZIYA JI,
MUBAARAQ HO.................
GHAZAL KE SABHI SHE'R TOH SANJEEDA KHUSHBOO SE MAHAKDAAR AUR UMDAA
HONE K SATH SATH PYAARE HAIN HI ...
AAPKE BLOG KA SAJAAV SINGAAR BHI LUBHAAVNAA HAI....
BADHAAI !
BAHUT BAHUT BADHAAI !

अर्चना तिवारी said...

बहुत ही सुन्दर रचना...सुन्दर भाव .