Monday 30 March 2009

मेरे वतन के वास्ते



मेरे वतन के वास्ते
एक नारा आज दो अपने वचन के वास्ते।
कारवाँ अब ये चला है खुद अमन के वास्ते।
क्या लडाइ क्या है हिंसा क्यों ये नफरत है रवाँ?
क्यों है ये जलती ज़मीं, और क्यो है ये जलता जहाँ?
खोल दो पंछी के पर उपर गगन के वास्ते।
कैसा मजहब कैसा इमाँ जिसमें बहता खून है?
कैसे है भटके ये नादाँ, दिल में केसी धून है?
केसी छेडी है लडाइ एक कफ़न के वास्ते।
है यहीं जन्नत, यहीं दोज़ख, यहीं है जिंदगी।
बाँट के देखो खुशी तो पाओगे तुम भी खुशी।
प्यार बाँटो नौजवानों अंजुमन के वास्ते।
तुम को ये कैसा गुमाँ क्या तुम कोइ भगवान हो?
जो हुए गुमराह पथ से तुम तो बस नादान हो।
क्यों चले हो राह तुम अपने पतन के वास्ते।
आयेगा ये दौर फिर से, होगी ज्योतिर्मय ज़मीं।
हर तरफ़ से फ़िर उठेगी प्यार की एक रागिनी।
”राज़” होगा मरहबा मेरे वतन के वास्ते।

22 comments:

Pawan Kumar said...

मेरे वतन के वास्ते
एक नारा आज दो अपने वचन के वास्ते।
कारवाँ अब ये चला है खुद अमन के वास्ते।
acha likhti hai aap. blog jagat me aapka swagat hai.

ilesh said...

क्यों चले हो राह तुम अपने पतन के वास्ते।
आयेगा ये दौर फिर से, होगी ज्योतिर्मय ज़मीं।
हर तरफ़ से फ़िर उठेगी प्यार की एक रागिनी।
”राज़” होगा मरहबा मेरे वतन के वास्ते।


hamesha ki tarha khubsurat sandeshatmak kavita

इरशाद अली said...

अभी किसी ब्लाॅग पर आपकी टिप्पणी देखी। मैं हैरान हूं कोई ऐसे भी लिख सकता हैं। दर्द किस-किस फार्मेट में तब्दील होकर हमारे सामने है। मुझे आपको पढ़कर महसूस हो रहा हैं।

लवली कुमारी / Lovely kumari said...

आपकी टिप्पणी हिंदी ब्लॉग टिप्स पर देखि जन्म दिन की बधाइयाँ :-)

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) said...

बहुत ही अच्छा लिखा है आपने.. आभार

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) said...

बहुत ही अच्छा लिखा है आपने.. आभार

Syed Akbar said...

सालगिरह की मुबारकबाद कबूल करें.

mark rai said...

कारवाँ अब ये चला है खुद अमन के वास्ते।....
i always with u for peace...thanks

Navnit Nirav said...

har koi chahta hai aman ho...
ab na khi dher au lashe kafan ho.
Jimmewari yuwaon ke haath hai ....par bahut kam hi ise nibha pa rahe hain.
Navnit Nirav

Shama said...

Raziya,ji...lagtaa hai mere manse alfaaz aapne le liye hon...
Mujhe nahee pata ki aapne meree "Ek Hindustanee kee Lalkaar, phir ek baar", is tehet 3 rachnayen padhee yaa nahee..."Kavita" blogpe hain...
lekin, kahungee, ke, apkee barabaree kaheen bhee nahee...mai na lekhak hun na kavee...

RAJ SINH said...

bahut hee sundar rachna, bharat ko jodtee. bahut dino bad aapka likha padhne ko mila .

ajay kumar jha said...

are baap re aapne to mujhe dara diya kahin ve mujhe hee to nahin dhoondh rahe hain, aaj pehlee baar apke blog par aaya hoon ab aana hee padegaa niyamit roop se, achha likhtee hain aap....

Science Bloggers Association said...

आपकी नयी पोस्ट का इंतजार है।
----------
जादू की छड़ी चाहिए?
नाज्का रेखाएँ कौन सी बला हैं?

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

आपकी अगली पोस्‍ट का इंतजार है।

-----------
खुशियों का विज्ञान-3
ऊँट का क्‍लोन

Creative Policing-Aravind Pandey said...

बहुत प्रभाव कारी लेखन ..

Science Bloggers Association said...

Prerna prad rachna ke liye aabhaar.

-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

प्रकाश गोविन्द said...

आप हैं कहाँ ?

मैं न जाने कितनी बार आकर लौट चूका हूँ !

आप क्या अब नयी पोस्ट नहीं लिखेंगी ?

दिगम्बर नासवा said...

आज आपका ब्लॉग देखा.......सुन्दर रचनाएं हैं ..............

अमिताभ श्रीवास्तव said...

pahli bar aaya aapke blog par, haalaanki bahut puraani post he, kintu,, jese jab jaago tab sabera ki baat he, vese hi jab pahli baar kuchh read karo, nayaa aour taazaa ho hotaa he//
achha lagaa,, likhti rahiye to sahitya ke safar ko uske pathik ka saath milta rahega

श्याम सखा 'श्याम' said...

केसी छेडी है लडाइ एक कफ़न के वास्ते।
काश हम इंसान यह बात समझ जाते,बधाई लिखते रहें
श्याम

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

आपने बहुत ही अच्छा लिखा है....

Mrs. Asha Joglekar said...

रजि़या जी मेरे ब्लॉग पर आकर टिप्पणी देने का शुक्रिया । बहुत सुंदर लिखती हैं आप, जो जज़्बा आपके दिल में है, दुआ करती हूँ हर हिंदुस्तानी के दिल में आबाद हो ।